Sandese Aate Hai Lyrics

Sandese Aate Hai Lyrics in English

Sandese aate hain, hamein tadpaate hain

Jo chitthi aati hai woh poochhe jaati hai

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin yeh ghar soona soona hai

Sandese aate hain, hamein tadpaate hain

Jo chitthi aati hai woh poochhe jaati hai

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin yeh ghar soona soona hai

Kisi dil waali ne, kisi matwaali ne

Hamein khat likha hai

Yeh humse poochha hai

Kisi ki saanson ne, kisi ki dhadkan ne

Kisi ki choodi ne, kisi ke kangan ne

Kisi ke kajre ne, kisi ke gajre ne

Mehakti subahon ne

Machalti shaamon ne

Akeli raaton mein, adhoori baaton ne

Tarasti baahon ne

Aur poochha hai tarsi nigaahon ne

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin yeh dil soona soona hai

Sandese aate hain, hamein tadpaate hain

Jo chitthi aati hai woh poochhe jaati hai

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin yeh ghar soona soona hai

Mohabbat waalon ne hamaare yaaron ne

Hamein yeh likha hai, ki humse poochha hai

Hamaare gaaon ne, aam ki chhaaon ne

Puraane peepal ne, baraste baadal ne

Khet khalihano ne, hare maidano ne

Basanti belon ne, jhoomti belon ne

Lachakate jhoolon ne, dahakate phoolon ne

Chatakati kaliyon ne

Aur poochha hai, gaaon ki galiyon ne

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin gaanv soona soona hai

Sandese aate hain, hamein tadpaate hain

Jo chitthi aati hai woh poochhe jaati hai

Ke ghar kab aaoge, ke ghar kab aaoge

Likho kab aaoge

Ke tum bin yeh ghar soona soona hai

Kabhi ek mamta ki, pyaar ki Ganga ki

Jo chitthi aati hai, saath woh laati hai

Mere din bachpan ke, khel woh aangan ke

Woh saaya aanchal ka, woh teeka kaajal ka

Woh lori raaton mein, woh narmi haathon mein

Woh chaahat aankhon mein

Woh chinta baaton mein

Bigadna upar se, mohabbat andar se

Kare woh devi Maa

Yehi har khet mein poochhe meri Maa

Sandese Aate Hai Lyrics in Hindi

संदेसे आते हैं
हमें तड़पाते हैं
जो चिट्ठी आती है
वो पूछे जाती है
के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे
के तुम बिन ये घर सूना सूना है…

किसी दिलवाली ने…
किसी मतवाली ने…
हमें खत लिखा है
ये हमसे पूछा है…

किसी की साँसों ने…
किसी की धड़कन ने…
किसी की चूड़ी ने…
किसी के कंगन ने…

किसी के कजरे ने…
किसी के गजरे ने…
महकती सुबहों ने…
मचलती शामों ने…
अकेली रातों में…
अधूरी बातों ने…
तरसती बाहों ने
और पूछा है तरसी निगाहों ने…
के घर कब आओगे…
लिखो कब आओगे…
के तुम बिन
ये दिल सूना सूना है…

संदेसे आते हैं
हमें तड़पाते हैं
जो चिट्ठी आती है
वो पूछे जाती है
के घर कब आओगे…

मोहब्बतवालों ने…
हमारे यारों ने…
हमें ये लिखा ह
कि हमसे पूछा है…

हमारे गाँवों ने
आम की छांवों ने…
पुराने पीपल ने
बरसते बादल ने…
खेत खलियानों ने
हरे मैदानों ने…
बसंती बेलों ने
झूमती बेलों ने….
लचकते झूलों ने
दहकते फूलों ने…
चटकती कलियों ने
और पूछा है गाँव की गलियों ने…

के घर कब आओगे…
लिखो कब आओगे…
के तुम बिन गाँव सूना सूना है…

संदेसे आते हैं
हमें तड़पाते हैं
जो चिट्ठी आती है
वो पूछे जाती है
के घर कब आओगे…

कभी एक ममता की
प्यार की गंगा की…
जो चिट्ठी आती है
साथ वो लाती है…

मेरे दिन बचपन के
खेल वो आंगन के…
वो साया आंचल का
वो टीका काजल का…

वो लोरी रातों में
वो नरमी हाथों में…

वो चाहत आँखों में
वो चिंता बातों में…

बिगड़ना ऊपर से
मोहब्बत अंदर से
करे वो देवी माँ…

यही हर खत में पूछे मेरी माँ…

के घर कब आओगे
लिखो कब आओगे…
के तुम बिन आँगन सूना सूना है..

संदेसे आते हैं
हमें तड़पाते हैं
जो चिट्ठी आती है
वो पूछे जाती है
के घर कब आओगे…

ऐ गुजरने वाली हवा बता
मेरा इतना काम करेगी क्या?

मेरे गाँव जा
मेरे दोस्तों को सलाम दे…

मेरे गाँव में है जो वो गली..
जहाँ रहती है मेरी दिलरुबा…

उसे मेरे प्यार का जाम दे (2)

वहीँ थोड़ी दूर है घर मेरा…
मेरे घर में है मेरी बूढ़ी माँ
मेरी माँ के पैरों को छू के तू
उसे उसके बेटे का नाम दे…

ऐ गुजरने वाली हवा ज़रा
मेरे दोस्तों
मेरी दिलरुबा
मेरी माँ को मेरा पयाम दे…
उन्हें जा के तू ये पयाम दे…

मैं वापस आऊंगा
घर अपने गाँव में…
उसी की छांव में
कि माँ के आँचल से…

गाँव की पीपल से
किसी के काजल से
किया जो वादा था वो निभाऊंगा…

मैं एक दिन आऊंगा… (2)

Related Posts