Qaafirana Lyrics

Qaafirana Lyrics in English

In vaadiyon mein takara chuke hai
Humse musafir yoon to kayi
Dil na lagaaya humne kisise
Kisse sune hai yoon to kayi
Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho
Itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai
Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho
Itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai
Khamoshiyon mein boli tumhari
Kuchh is tarah gunjati hai
Kaano se mere hote hue voh
Dil ka pata dhoondati hai
Besuvaadiyon mein
Besuvaadiyon mein
Jaise mil raha ho
Koi zaayaka
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai
Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho
Itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

La la la la.. aaha aaha aaha..
Godi mein pahaadiyon ki ujli dopahari gujarana
Haay haay tere saath mein achchha lage
Sharmili ankhiyon se tera meri nazare utarana
Haay haay har baat pe achchha lage
Dhalti hui shaam ne
Bataaya hai ki door manzil pe raat hai
Mujhko tasalli hai ye
Ki hone talak raat hum dono saath hain
Sang chal rahe hai, sang chal rahe hai
Dhoop ke kinaare
Chhanv ke tarah
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai
Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho
Itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

Qaafirana Lyrics in Hindi

इन वादियों में टकरा चुके हैं हमसे मुसाफ़िर यूँ तो कई दिल ना

लगाया हमने किसी से किस्से सुने हैं यूँ तो कई ऐसे तुम मिले हो ऐसे

तुम मिले हो जैसे मिल रही हो इत्र से हवा काफ़िराना सा है इश्क है या

क्या है ऐसे तुम मिले हो ऐसे तुम मिले हो जैसे मिल रही हो इत्र से हवा

काफ़िराना सा है इश्क है या क्या है ख़ामोशियों में बोली तुम्हारी कुछ इस

तरह गूंजती है कानो से मेरे होते हुए वो दिल का पता ढूंढती है बेस्वादियों में,

बेस्वादियों में जैसे मिल रहा हो कोई ज़ायका काफ़िराना सा है इश्क है या क्या

है ऐसे तुम मिले हो ऐसे तुम मिले हो जैसे मिल रही हो इत्र से हवा काफ़िराना सा

है इश्क हैं या क्या है ला ला ला ला.. आहा हा आहा.. गोदी में पहाड़ियों की उजली

दोपहरी गुज़रना हाय हाय तेरे साथ में अच्छा लगे.. शर्मीली अंखियों से तेरा मेरी नज़रें

उतरना हाय हाय हर बात पे अच्छा लगे.. ढलती हुई शाम ने बताया है की दूर मंजिल

पे रात है मुझको तसल्ली है ये के होने तलक रात हम दोनों साथ है संग चल रहे हैं संग

चल रहे हैं धुप के किनारे छाव की तरह.. काफ़िराना सा है इश्क हैं या क्या है हम्म.. ऐसे

तुम मिले हो ऐसे तुम मिले हो जैसे मिल रही हो इत्र से हवा काफ़िराना सा है इश्क हैं या क्या है

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *