Maine Pucha Chand Se Lyrics – Mohammad Rafi

Maine Pucha Chand Se Lyrics is romantic Hindi song sung by Mohammad Rafi. RD Burman composed and directed the music for this romantic number. Maine Pucha Chand Se Lyrics are penned by Anand Bakshi.

(Maine Pucha Chand Se Lyrics in English)


Maine poocha chand se
Ke dekha hai kahin mere yaar sa haseen
Chand ne kaha chandni ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se

Maine poocha chand se
Ke dekha hai kahin mere yaar sa haseen
Chand ne kaha chandni ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se

Maine yeh hijaab tera dhoondha..
Har jagah shabaab tera dhoondha
Kaliyon se misaal teri phoochi
Phoolon main jawaab tera dhoondha
Maine poocha baag se falak ho ya zameen
Aisa phool hai kahin Baag ne kaha har kali ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se

Ho.. chaal hai ke mauj ki rawaani
Zulf hai ke raat ki kahaani
Honth hain ke aaine kanval ke
Aankh hai ke maikadon ki rani
Maine poocha jaam se falak ho ya zameen
Aisi mai bhi hai kahin
Jaam ne kaha maikashi ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se

Khoobsurati jo tune paayi
Lut gayi khuda ki bas khudaai
Meer ki ghazal kahoon tujhe main
Ya kahoon Khayyam ki rubaai
Maine jo poochun shayaron se
Aisa dil nasheen
Koi sher hai kahin
Shayar kahein shayari ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se

Maine poocha chand se
Ke dekha hai kahin mere yaar sa haseen
Chand ne kaha chandni ki kasam
Nahin, nahin, nahin..
Maine poocha chand se


(Maine Pucha Chand Se Lyrics in Hindi)


मैंने पूछा चाँद से के देखा है कहीं
मेरे यार सा हसीन
चाँद ने कहा, चाँदनी की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से के देखा है कहीं
मेरे यार सा हसीन
चाँद ने कहा, चाँदनी की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से
मैंने ये हिजाब तेरा ढूँढा
हर जगह शबाब तेरा ढूँढा
कलियों से मिसाल तेरी पूछी
फूलों में जवाब तेरा ढूँढा
मैंने पूछा बाग से फ़लक हो या ज़मीं
ऐसा फूल है कहीं
बाग ने कहा, हर कली की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से
हो, चाल है के मौज की रवानी
जुल्फ है के रात की कहानी
होठ हैं के आईने कंवल के
आँख है के मयकदों की रानी
मैंने पूछा जाम से, फलक हो या ज़मीं
ऐसी मय भी है कहीं
जाम ने कहा, मयकशी की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से
खूबसुरती जो तूने पाई
लूट गई खुदा की बस खुदाई
मीर की ग़ज़ल कहूँ तुझे मैं
या कहूँ ख़याम की रुबाई
मैं जो पूछूँ शायरों से ऐसा दिलनशी
कोई शेर है कहीं
शायर कहें, शायरी की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से के देखा है कहीं
मेरे यार सा हसीं
चाँद ने कहा, चाँदनी की कसम
नहीं, नहीं, नहीं
मैंने पूछा चाँद से

Related Posts