Main Dhoondne Ko Zamaane Mein Lyrics

 Main Dundhne Ko Jamane Me Jab Wafa Nikala In English

Aa ha aa ha aa ha aa

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Pata chala ke ghalat leke main pata nikla

Pata chala ke ghalat leke main pata nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Aa aa ha aa ha aa ha aa

Jiske aane se muqammal ho gayi thi zindagi

Dastake khushiyon ne di thi

Mit gayi thi har kami

Kyun bewajah di yeh saza

Kyun khwaab de ke woh le gaya

Jiye jo hum lage sitam

Azaab aise woh de gaya

Main dhundne ko uske dil me jo khuda nikla

Main dhundne ko uske dil me jo khuda nikla

Pata chala ke ghalat leke main pata nikla

Pata chala ke galat leke main pata nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla aa

Aa ha aa aa ha aa ha aa

Dhundta tha ek pal me dil jise ye sau dafa

Hai subah naraz us bin ruthi shaame din khafa

Woh aaye na

Le jaye na

Haan uski yaade jo yaha

Na raasta

Na kuchh pata

Main usko dhundhunga ab kaha

Main dhundne jo kabhi jeene ki wajah nikla

Main dhundne jo kabhi jeene ki wajah nikla

Pata chala ke ghalat leke main pata nikla

Pata chala ke ghalat leke main pata nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla

Main dhundne ko zamane me jab wafa nikla aa

Aa o aa woah hey aye ayee ye

 Main Dundhne Ko Jamane Me Jab Wafa Nikala In Hindi

मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब

वफ़ा निकला पता चला के ग़लत लेके मैं पता निकला पता चला के ग़लत

लेके मैं पता निकला मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला मैं ढूंढ़ने को

ज़माने में जब वफ़ा निकला आ आ … हा आ हा आ … हा … जिसके आने

से मुक़म्मल हो गयी थी ज़िन्दगी दस्तक ख़ुशियों ने दी थी मिट गयी थी हर

कमी क्यूँ बेवजह दी यह सज़ा क्यूँ ख्वाब दे के वह ले गया जियें जो हम लगे

सितम अज़ाब ऐसे वह दे गया मैं ढूंढ़ने को उसके दिल में जो ख़ुदा निकला मैं

ढूंढ़ने को उसके दिल में जो ख़ुदा निकला पता चला के ग़लत लेके मैं पता निकला

पता चला के ग़लत लेके मैं पता निकला मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला मैं

ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला ढूंढ़ता था एक पल में दिल जिसे ये सौ दफ़ा है

सुबह नाराज़ उस बिन रूठी शामे दिन खफा वह आयें ना ले जाएँ ना हाँ उसकी यादें

जो यहाँ ना रास्ता, ना कुछ पता मैं उसको ढूंढूंगा अब कहाँ मैं ढूंढ़ने जो कभी जीने कि

वज़ह निकला मैं ढूंढ़ने जो कभी जीने कि वज़ह निकला पता चला के ग़लत लेके मैं पता निकला पता चला के ग़लत लेके मैं पता निकला मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला मैं ढूंढ़ने को ज़माने में जब वफ़ा निकला आ…

Related Posts