Dil Tod Ke Lyrics

Dil Tod Ke Lyrics in English

”Sawal ek chhota sa tha
Jiske peechhe yeh poori zindagi barbaad kar li
Bhulaun kis tarah woh donon aankhein
Kitaabon ki tarah jo yaad kar li”

Tum de rahi ho dil mein kisi aur ko jagah
Lekin koyi na chahega tumko meri tarah

Kya hai kusoor mera
Jo dil se utar gaya
Mud ke bhi na dekha mujhe
Tumne ek dafaa

Jaise gayi ho
Jaise gayi ho
Jaata hai kya koyi
Aise chhod ke

Dil tod ke
Ho dil tod ke hasti ho mera
Wafayein meri yaad karogi
Pher do mujhse aaj nigaahein
Kadar mere baad karogi
Dil tod ke
Ho dil tod ke

Woh tum hi to thi
Jo baar baar aake
Lagti thi gale mere

Woh tum hi to thi
Jo baar baar aake
Lagti thi gale mere
Woh bhi tum hi thi
Har roz sath jiske
Dil raat dhale mere

Kahan gayi tum ho
Kahan gayi tum dard se mera
Rishta jod ke

Dil tod ke
Ho dil tod ke hasti ho mera
Wafayein meri yaad karogi
Pher do mujhse aaj nigaahein
Kadar mere baad karogi
Dil tod ke
Ho dil tod ke

Ho galiyon galiyon liye khada main
Tukda tukda dil
Kaash kisi ne poochha hota
Kaise ujda dil

Ho galiyon galiyon liye khada main
Tukda tukda dil
Kaash kisi ne poochha hota
Kaise ujda dil

Dil Tod Ke Lyrics in Hindi

“सवाल एक छोटा सा था जिसके पीछे ये पूरी ज़िन्दगी बर्बाद कर ली

भुलाऊं किस तरह वो दोनों आँखें किताबों की तरह जो याद कर ली”

तुम दे रही हो दिल में किसी और को जगह लेकिन कोई ना चाहेगा तुमको

मेरी तरह क्या है कसूर मेरा जो दिल से उतर गया मुड़ के भी ना देखा मुझे

तुमने एक दफ़ा जैसे गयी हो… जैसे गयी हो जाता है क्या कोई ऐसे छोड़ के

दिल तोड़ के हो दिल तोड़ के हसती हो मेरा वफाऐं मेरी याद करोगी ओ फेर लो मुझसे

आज निगाहें कदर मेरे बाद करोगी ओ दिल तोड़ के हो दिल तोड़ के वो तुम ही तो थी

जो बार-बार आके लगती थी गले मेरे वो तुम ही तो थी जो बार-बार आके लगती थी गले मेरे

वो भी तुम ही थी हर रोज़ साथ जिसके दिन रात ढले मेरे कहाँ गयी तुम ओ… कहाँ गयी तुम

दर्द से मेरा रिश्ता जोड़ के दिल तोड़ के हो दिल तोड़ के हसती हो मेरा वफाऐं मेरी याद करोगी

ओ फेर लो मुझसे आज निगाहें कदर मेरे बाद करोगी ओ दिल तोड़ के हो दिल तोड़ के हो गलियों

गलियों लिए फिर मैं टुकड़ा टुकड़ा दिल काश किसी ने पूछा होता कैसे उजड़ा दिल हो गलियों गलियों

लिए फिर मैं टुकड़ा टुकड़ा दिल काश किसी ने पूछा होता कैसे उजड़ा दिल कैसे भर दी ओ.. कैसे भर दी

नदियाँ नाले आँखें निचोड़ के दिल तोड़ के हसती हो मेरा वफाऐं मेरी याद करोगी ओ फेर लो मुझसे आज

निगाहें कदर मेरे बाद करोगी ओ दिल तोड़ के हाय दिल तोड़ के “सिर्फ दिल टूटा है सांस नहीं धड़कनों में

रवानी बाकी है प्यार का किस्सा ख़तम हो गया तो क्या ज़िन्दगी की कहानी अभी बाकी है” हाय दिल तोड़ के

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *