Aye Mere Watan Ke Logo Lyrics

Aye Mere Watan Ke Logo Lyrics in English

Aye Mere Vatan Ke Logon Tum Khub Lagaa Lo Naaraa

Yeh Shubh Din Hai Hum Sab Kaa Leharaa Lo Tirangaa

Pyaaraa Par Mat Bhulo Siimaa Par Veeron Ne Hai Praan

Ganwaae Kuchh Yaad Unhein Bhi Kar Lo Kuchh Yaad

Unhein Bhi Kar Lo Jo Laut Ke Ghar Na Aaye Jo Laut Ke

Ghar Na Aaye Aye Mere Vatan Ke Logon Zaraa Aankh

Mein Bhar Lo Paani Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad

Karo Qurbaani Jab Ghaayal Hua Himaalay Khatare Mein

Padi Aazaadi Jab Tak Thi Saans Ladhe Wo Phir Apani Laash

Bichhaa Dii Sangiin Pe Dhar Kar Maathaa So Gaye Amar Balidaani

Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad Karo Qurbaani Jab Desh Mein Thi

Diwaali Woh Khel Rahe The Holi Jab Hum Baithe The Gharon Mein Woh

Jhel Rahe The Goli The Dhanya Jawaan Wo Aapane Thi Dhanya Wo Unki

Jawaani Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad Karo Qurbaani Koi Sikh Koi

Jaat Maraatha Koi Gorkhaa Koi Madaraasi Sarhad Pe Marane Waalaa Har

Veer Thaa Bhaaratvaasi Jo Khoon Giraa Parvat Par Wo Khoon Thaa Hindustaani

Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad Karo Qurbaani Thi Khoon Se Lath Pat Kaayaa

Phir Bhi Bandhuk Uthaake Dus Dus Ko Ek Ne Maaraa Phir Gir Gaye Hosh Ganwaa Ke

Jab Ant Samay Aayaa To Keh Gaye Ke Ab Marte Hain Khush Rehanaa Desh Ke Pyaaron

Ab Hum To Safar Karte Hain Kyaa Log The Wo Deewaane Kyaa Log The Wo Abhimaani

Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad Karo Qurbaani Tum Bhool Naa Jaao Unko Is Liye Kahi

Ye Kahaani Jo Shahid Hue Hain Unki Zaraa Yaad Karo Qurbaani Jay Hind… Jay Hind Ki Senaa

Jay Hind… Jay Hind Ki Senaa Jay Hind, Jay Hind, Jay Hind

Aye Mere Watan Ke Logo Lyrics in Hindi

ऐ मेरे वतन के लोगों..तुम खूब लगा लो नारा ये शुभ दिन है हम

सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है

प्राण गँवाए कुछ याद उन्हें भी कर लो.. कुछ याद उन्हें भी कर लो..

जो लौट के घर न आए जो लौट के घर न आए ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा

आँख में भर लो पानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो क़ुरबानी ऐ मेरे

वतन के लोगों ज़रा आँख में भर लो पानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो

क़ुरबानी जब घायल हुआ हिमालय खतरे में पड़ी आज़ादी जब तक थी साँस लड़े

वो जब तक थी साँस लड़े वो फिर अपनी लाश बिछा दी संगीन पे धर कर माथा सो

गये अमर बलिदानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो क़ुरबानी जब देश में थी

दीवाली वो खेल रहे थे होली जब हम बैठे थे घरों में जब हम बैठे थे घरों में वो झेल रहे थे

गोली थे धन्य जवान वो अपने थी धन्य वो उनकी जवानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद

करो क़ुरबानी कोई सिख कोई जाट मराठा कोई सिख कोई जाट मराठा कोई गुरखा कोई

मदरासी कोई गुरखा कोई मदरासी सरहद पर मरनेवाला.. सरहद पर मरनेवाला हर वीर था

भारतवासी जो खून गिरा पर्वत पर वो खून था हिंदुस्तानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो

क़ुरबानी थी खून से लथ-पथ काया फिर भी बन्दूक उठाके दस-दस को एक ने मारा फिर गिर गये

होश गँवा के जब अन्त-समय आया तो कह गए के अब मरते हैं जब अन्त-समय आया तो कह गए के

अब मरते हैं खुश रहना देश के प्यारों.. खुश रहना देश के प्यारों अब हम तो सफ़र करते हैं अब हम तो

aसफ़र करते हैं क्या लोग थे वो दीवाने क्या लोग थे वो अभिमानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो क़ुरबानी

तुम भूल न जाओ उनको इस लिये कही ये कहानी जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो क़ुरबानी जय हिन्द जय

हिन्द जय हिन्द की सेना जय हिन्द जय हिन्द जय हिन्द की सेना जय हिन्द जय हिन्द जय हिन्द.

Related Posts