Ankhiyon Ke Jharokhon Se Lyrics

Ankhiyon Ke Jharokhon Se Lyrics in English

 

Ankhiyon Ke Jharokhon Se Maine Dekha Jo Saanware

Tum Door Nazar Aaye Badi Door Nazar Aaye

Band Karke Jharokhon Ko Zara Baithee Jo Sochne

Man Mein Tumhi Muskaye Man Mein Tumhi Muskaye

Ankhiyon Ke Jharokhon Se

Ek Man Tha Mere Paas Woh Ab Khone Laga Hai

Paakar Tujhe Hai Mujhe Kuchh Hone Laga Hai

Ek Tere Bharose Pe Sab Baithee Hoon Bhool Ke

Yoon Hi Umar Guzar Jaye Tere Saath Guzar Jaye

Ankhiyon Ke Jharokhon Se…

Jeeti Hoon Tujhe Dekh Ke Marti Hoon Tumhi Pe

Tum Ho Jahan Saajan Meri Duniya Hai Wahin Pe

Din Raat Dua Maange Mera Man Tere Waaste

Kabhi Apni Ummeedon Ka Kahin Phool Na Murjhaye

Ankhiyon Ke Jharokhon Se…

Maein Jab Se Tere Pyar Ke Rangon Mein Rangi Hoon

Jaagte Hue Soi Nahin Neendon Mein Jagi Hoon

Mere Pyar Bhare Sapne Kahin Koi Na Chheen Le

Man Soch Ke Ghabraye Yahi Soch Ke Ghabraye

Ankhiyon Ke Jharokhon Se Maine Dekha Jo Saanware

Tum Door Nazar Aaye Badi Door Nazar Aaye

Ankhiyon Ke Jharokhon Se Lyrics in Hindi

 

अँखियों के झरोखों से, मैंने देखा जो सांवरे
तुम दूर नज़र आए, तुम (बड़ी) दूर नज़र आए
बंद करके झरोखों को, ज़रा बैठी जो सोचने
मन में तुम्हीं मुस्काए, मन में तुम्हीं मुस्काए
अँखियों के झरोखों से…

इक मन था मेरे पास वो, अब खोने लगा है
पाकर तुझे, हाय मुझे, कुछ होने लगा है
इक तेरे भरोसे पे, सब बैठी हूँ भूल के
यूँ ही उम्र गुज़र जाए, तेरे साथ गुज़र जाए
अँखियों के झरोखों से…

जीती हूँ तुम्हें देख के, मरती हूँ तुम्हीं पे
तुम हो जहाँ, साजन, मेरी दुनिया है वहीं पे
दिन रात दुआ माँगे, मेरा मन तेरे वास्ते
कहीं अपनी उम्मीदों का, कोई फूल न मुरझाए
अँखियों के झरोखों से…

मैं जब से तेरे प्यार के, रंगों में रंगी हूँ
जगते हुए, सोई रही, नींदों में जगी हूँ
मेरे प्यार भरे सपने, कहीं कोई न छीन ले
दिल सोच के घबराए, यही सोच के घबराए
अँखियों के झरोखों से…

कुछ बोल के खामोशियाँ, तड़पाने लगी हैं
चुप रहने से मजबूरियाँ, याद आने लगी हैं
तू भी मेरी तरह हँस ले, आँसू पलकों पे थाम के
जितनी है ख़ुशी, ये भी, अश्कों में ना बह जाए
अँखियों के झरोखों से…

कलियाँ ये सदा प्यार की, मुसकाती रहेंगी
खामोशियाँ तुझसे मेरे, अफ़साने कहेंगी
जी लूँगी नया जीवन, तेरी यादों में बैठ के
खुश्बू जैसे फूलों में उड़ने पे भी रह जाए
अँखियों के झरोखों से…

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *