Abhi Mujh Mein Kahin Lyrics

Abhi Mujh Mein Kahin Lyrics  in English

Abhi mujh mein kahin

Baaqi thodi si hai zindagi

Jagi dhadkan nayi

Jaana zinda hoon main toh abhi

Kuch aisi lagan iss lamhe mein hai

Ye lamha kahaan tha mera

Ab hai saamne

Issey chhoo loon zaraa

Mar jaaoon ya jee loon zaraa

Khushiyaan choom loon

Yaa ro loo’n:'(zaraa

Mar jaaoon ya jee loon zaraa

Ho o. abhi mujh mein kahin

Baaqi thodi si hai zindagi

Ho. dhoop mein jalte huey tann ko, chhaya perh ki mill gayee

Roothe bachche ki hansi jaise, phuslaane se phir khill gayee

Kuchh aisa hi abb mehsoos dil ko ho rahaa hai

Barso’n ke puraane zakhm pe marham laga saa hai

Kuch aisa rahem, iss lamhe mein hai

Ye lamha kahaan tha mera

Ab hai saamne

Issey chhoo loon zara

Mar jaaoon ya jee loon zara

Khushiyaan choom loon

Yaa ro loo’n zaraa

Mar jaaoo’n yaa jee loon zaraa

Dor se tooti patang jaisi, thi ye zindagani meri

Aaj ho kal ho mera naa ho

Har din thi kahani meri

Ik bandhan naya peechhe se abb mujhko bulaaye

Aane waley kal ki kyun fikar mujhko sata jaaye

Ik aisi chubhan iss lamhe me hai

Ye lamha kahaan tha mera aa

Ab hai saamne

Issey chhoo loon zara

Mar jaaoo’n ya jee loon zara

Khushiyaan choom loon

Yaa ro loo’n zaraa

Mar jaaoo’n ya jee loon zara

Abhi Mujh Mein Kahin Lyrics  in Hindi

अभी मुझ में कहीं.. बाकी थोड़ी सी है जिन्दगी.. जागी धड़कन

नई जाना ज़िन्दा हूं मैं तो अभी कुछ ऐसी लगन इस लम्हे में है ये

लम्हा कहाँ था मेरा अभी है सामने इसे छु लूं ज़रा मर जाऊं या जी

लूं ज़रा खुशियाँ चूम लूं या रो लूं ज़रा मर जाऊं या जी लूं ज़रा धूप में

जलते हुए तन को छाया पेड़ की मिल गयी रूठे बच्चे की हंसी जैसे

फुसलाने से फिर खिल गयी रूठे बच्चे की हंसी जैसे फुसलाने से फिर

खिल गयी कुछ ऐसा ही महसुस दिल को हो रहा बरसों के पुराने ज़ख्मों

पे मरहम लगा सा है कुछ एहसास है, इस लम्हे में है ये लम्हा कहाँ था मेरा

अभी है सामने इसे छु लूं ज़रा मर जाऊं या जी लूं ज़रा खुशियाँ चूम लूं या रो

लूं ज़रा डोर से पतंग जैसी थी ये ज़िन्दगी मेरी आज हो कल मेरा ना हो हर दिन

थी कहानी मेरी एक बंधन नया पीछे से मुझको बुलाये आने वाले कल की क्यूँ फ़िकर

मुझको सता जाये इक ऐसी चुभन इस लम्हें में है ये लम्हा कहाँ था मेरा अभी है सामने

इसे छु लूं ज़रा मर जाऊं या जी लूं ज़रा खुशियाँ चूम लूं या रो लूं ज़रा मर जाऊं या जी लूं ज़रा..

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *