Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics

                                   Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics In English

 

aaj jaane ki zid na karo
Aaj jaane ki zid na karo

Yun hi pahalu mein baithe raho
Aaj jaane ki zid na karo
Haay mar jaenge
Ham to lut jaenge
Aise baaten kiya na karo
Aaj jaane ki zid na karo
Haay mar jaenge
Ham to lut jaenge
Aise baaten kiya na karo
Aaj jaane ki zid na karo

Tum hee socho zara
Kyoon na roken tumhen
Jaan jati hai jab
Uth ke jaate ho tum
Jaan jati hai jab
Uth ke jaate ho tum
Tumako apanee qasam jaanejaan
Baat itanee meree maan lo
Aaj jaane ki zid na karo
Yun hi pahalu mein baithe raho
Aaj jaane ki zid na karo

Haay mar jaenge
Ham to lut jaenge
Aise baaten kiya na karo
Aaj jaane ki zid na karo

Waqt ki kaid mein zindagee hai magar
Chand ghadiyaan yahee hain jo aazaad hai
Inako kho kar meree jaanejaan
Umr bhar na tarasate raho
Aaj jaane ki zid na karo

Haay mar jaenge
Ham to lut jaenge
Aise baaten kiya na karo
Aaj jaane ki zid na karo

Kitana maasoom rangeen hai ye samaan
Husn aur ishq ki aaj bairaaj hai
Kal ki kisako khabar jaanejaan
Rok lo aaj ki raat ko
Aaj jaane ki zid na karo

Yun hi pahalu mein baithe raho
Aaj jaane ki zid na karo

Haay mar jaenge
Ham to lut jaenge
Aise baaten kiya na karo
Aaj jaane ki zid na karo

 

 

Na Karo Lyrics  in Hindi

 

आज जाने की ज़िद ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

यूँ ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद न करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

तुम ही सोचो ज़रा
क्यूँ ना रोकें तुम्हें
जान जाती है जब
उठ के जाते हो तुम
जान जाती है जब
उठ के जाते हो तुम
तुमको अपनी क़सम जानेजां
बात इतनी मेरी मान लो
आज जाने की ज़िद ना करो

यूं ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

वक़्त की कैद में ज़िन्दगी है मगर
चंद घड़ियां यही हैं जो आज़ाद है
इनको खो कर मेरी जानेजाँ
उम्र भर ना तरसते रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

कितना मासूम रंगीन है ये समां
हुस्न और इश्क़ की आज बैराज है
कल की किसको ख़बर जानेजाँ
रोक लो आज की रात को
आज जाने की ज़िद ना करो

यूँ ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

Related Posts